गन्दा व्यापार कब तक?
एक सही कदम उठाने के बाद फिर उसको वापस ले लेना आखिर क्यों?

मुद्दा इंजीनियरिंग कॉलेजों में एडमिशन से सम्बंध रखता है।


एक बेहतर निर्णय लिया था कि 60 प्रतिशत अंक वाला छात्र ही तकनीकी शिक्षा ले क्योंकि उसकी छमताओं के अनुसार ठीक था यह।

जब एडमिशन मिलें नही तो वे संस्थाये जो सिर्फ शिक्षा को व्यापार बना लिए उन सभी ने दबाव बनाना शुरू कर दिया ।
और निर्णय बदल गए जनाब।।